Sunday, 11 September 2016

Gandhi Jayanti 2016 Speech in Hindi English भसन for School Functions

Gandhi Jayanti 2016 Speech in Hindi English भसन for School Functions : Gandhi Jayanti 2016 Speech, 2 October 2016 Speech's, gandhi jayanti 2016 Hindi Speech, gandhi jayanti 2016 English Speech, Gandhi Jayanti 2016 Speech In Hindi English Bhashan for the School Students or Functions : Our respected visitors hello all dear users and visitors happy ‘2 October Gandhi Jayanti’ most welcome in our website we all know Gandhi jayanti Is celebrates when Gandhi ji was the greatest freedom fighter and who makes a anndolan British Bharat chodo abhiyan and he play a important role to Make India freedom Free. And that day is celebrates as a National Holiday in India so here we are going to celebrate ‘Mahatma Gandhi Jayanti and celebrates 2 October 2016 with lots of happiness and joy with great wonderful memory’s of Gandhi ji. This the 147th Birthday of Bapu for specialy you we have provide a unique awesome collection of Gandhi Jayanti 2016 Speech in Hindi and English on this special occasion our users and audiances are finding a perfect suitable speech for their school functions and our Article ‘Bhasan on Bapu’ helps you to make your day special in your school. 

Gandhi Jayanti 2016 Speech in Hindi English भसन for School Function

Gandhi Jayanti is a national holiday in India celebrated on 2nd October. This day is celebrated in the honor of the birthday of the Father of the nation, Mohandas Karamchand Gandhi, popularly known as Mahatma Gandhi or Bapuji. Internationally this day is celebrated as the International Day of Non-Violence as Gandhiji was the preacher of non-violence. He is a symbol of peace and truth.  
Gandhiji was born on 2nd October 1869, in Porbunder, a small town in Gujarat. He studied law in U.K and practiced law in South Africa. In his autobiography "My experiments with Truth" Gandhiji described his childhood and teen age years, his marriage with Kasturba at the age of 13 and a sheer dedication for his mother land. He has set an example of simple living and high thinking. He was against the addictions like smoking, drinking and non-vegetarianism.  
Gandhiji was a pioneer of truth and non-violence. He started the 'Satyagraha' (non-violence) movement for the Indian freedom struggle. He played a very significant role in achieving independence for India from British rule. He proved to the world that freedom can be achieved through the path of total non-violence.  
All the organizations throughout the country remain closed on this day. Special event is organized at Raj Ghat, New Delhi where Gandhiji was cremated. People do prayers, pay homage and sing Gandhiji's favorite song "Raghupati Raghav Raja Ram, Patit Pavan Sita Ram...’’
एक ही दिवस पर दो विभूतियों ने भारत माता को गौरवान्वित किया। गाँधी जी एवं लाल बहादूर शास्त्री जैसी अदभुत प्रतिभाओ का 2 अक्टूबर को अवतरण हम सभी के लिये हर्ष का विषय है। सत्य और अहिंसा के बल पर अंग्रेजों से भारत को स्वतंत्र करा करके हम सभी को स्वतंत्र भारत का अनमोल उपहार देने वाले महापुरूष गाँधी जी को राष्ट्र ने राष्ट्रपिता के रूप में समान्नित किया। वहीं जय जवान, जय किसान का नारा देकर भारत के दो आधार स्तंभ को महान कहने वाले महापुरूष लाल बहादुर शास्त्री जी ने स्वतंत्र भारत के दूसरे प्रधान मंत्री के रूप में राष्ट्र को विश्वपटल पर उच्चकोटी की पहचान दिलाई। 
आज इस लेख में मैं आपके साथ राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी से सम्बंधित कुछ रोचक बातें साझा करने का प्रयास करुँगी 
भारत ही नही वरन पूरे  विश्व पटल पर महात्मा गाँधी सिर्फ़ एक नाम नहीं अपितु शान्ति और अहिंसा का प्रतीक है। महात्मा गाँधी के पूर्व भी शान्ति और अहिंसा की अवधारणा फलित थी, परन्तु उन्होंने जिस प्रकार सत्याग्रह, शान्ति अहिंसा के रास्तों पर चलते हुये अंग्रेजों को भारत छोड़ने पर मजबूर किया, उसका कोई दूसरा उदाहरण विश्व इतिहास में देखने को नहीं मिलता। तभी तो प्रख्यात वैज्ञानिक आइंस्टीन ने कहा था कि -‘‘हज़ार साल बाद आने वाली नस्लें इस बात पर मुश्किल से विश्वास करेंगी कि हाड़-मांस से बना ऐसा कोई इन्सान धरती पर कभी आया था।’’
 
संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी वर्ष 2007 से गाँधी जयंती कोविश्व अहिंसा दिवसके रूप में मनाये जाने की घोषणा की।  
मित्रों आज हम गाँधी जी की उस उप्लब्धी का जिक्र करने का प्रयास कर रहे हैं जो हम सभी के लिये गर्व का विषय है।  
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी अहिंसा के बूते पर आजादी दिलाने में भले ही भारत के हीरो हैं लेकिन डाक टिकटों के मामले में वह विश्व के 104 देशों में सबसे बड़े हीरो हैं। विश्व में अकेले गांधी ही ऐसे लोकप्रिय नेता हैं जिन पर इतने अधिक डाक टिकट जारी होना एक रिकार्ड है। डाक टिकटों की दुनिया में गांधी जी सबसे ज़्यादा दिखने वाले भारतीय हैं तथा भारत में सर्वाधिक बार डाक-टिकटों पर स्थान पाने वालों में गाँधी जी प्रथम हैं। यहाँ तक कि आज़ाद भारत में वे प्रथम व्यक्ति थे, जिन पर डाक टिकट जारी हुआ। किन्तू एक दिलचस्प बात यह थी कि ज़िंदगी भरस्वदेशीको तवज्जो देने वाले गांधी जी को सम्मानित करने के लिए जारी किए गए पहले डाक टिकटों की छपाई स्विट्जरलैंड में हुई थी। इसके बाद से लेकर आज तक किसी भी भारतीय डाक टिकट की छपाई विदेश में नहीं हुई।  
गाँधी जी की शक्सियत का ही असर था कि, भारत को ग़ुलामी के शिकंजे में कसने वाले ब्रिटेन ने जब पहली दफ़ा किसी महापुरुष पर डाक टिकट निकाला तो वह महात्मा गांधी ही थे। इससे पहले ब्रिटेन में डाक टिकट पर केवल राजा या रानी के ही चित्र छापे जाते थे।  
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर सर्वाधिक डाक टिकट उनके जन्म शताब्दी वर्ष 1969 में जारी हुए थे। उस वर्ष विश्व के 35 देशों ने उन पर 70 से अधिक डाक टिकट जारी किए थे।  
मित्रों, गाँधी जी ने सत्य को अपने जीवन में बचपन से ही अपनाया था। सत्य को परिलाक्षित करती उनकी एक बचपन की घटना याद आती है जब टीचर के कहने के बावजूद भी उन्होने नकल नही की। किस्सा यूँ है कि, एक बार- राजकोट के अल्फ्रेड हाई स्कूल में तत्कालीन शिक्षा विभाग के इंसपेक्टरजाइल्समुआयना करने आए थे। उन्होने नवीं कक्षा के विद्यार्थियों को अंग्रेजी के पाँच शब्द लिखने को दिये, जिसमें से एक शब्द थाकेटलमोहनदास इसे ठीक से नही लिख सके तो मास्टर साहब ने ईशारा किया कि आगे वाले लङके की नकल कर लो किन्तु मोहनदास ने ऐसा नही किया। परिणाम ये हुआ कि सिर्फ उनके ही लेख में गलती निकली सभी के पाँचो शब्द सही थे। जब मास्टर साहब ने पूछा कि तुमने नकल क्यों नही की तो मोहनदास ने ढृणता से उत्तर दिया किऐसा करना धोखा देने और चोरी करने जैसा है जो मैं हर्गिज नही कर सकता ये घटना इस बात का प्रमाण है कि गाँधी जी बचपन से ही सत्य के अनुयायी थे। राजा हरिश्चन्द्र और श्रवण कुमार का असर उन पर बचपन से ही था।  
ऐसे सत्य और अहिंसा के पूजारी को निम्न पंक्तियों से नमन करते हैं-
दे दी हमें आजादी खड्ग बिना ढाल, साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल” 
धन्यवाद
अनिता शर्मा 
Gandhi Jayanti 2016 Speech in Hindi English भसन for School Function

Thank you and very happy Gandhi jayanti 2016 to all my dear friends we hople you like our article most and our site, please stay tuned with us for more Festivals items like Gandhi jayanti Speech and other valuable item. Stay connect with us.
Share:

0 comments:

Copyright © Festivals | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com